तन्हा रातें – शिशिर मधुकर

अगर सब छोड़ तुम मुझको अपने मन से अपनाते
कभी सूनी ना गुजरती इस नम सावन की बरसाते
बसाते हैं जो रिश्तों को अपने दिल की धड़कन में
उनकी यादों के सहारे ही फ़िर कटती हैं तन्हा रातें

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. mani 30/07/2016
    • Shishir "Madhukar" 31/07/2016
  2. C.m.sharma(babbu) 30/07/2016
    • Shishir "Madhukar" 31/07/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी 30/07/2016
    • Shishir "Madhukar" 31/07/2016
  4. sarvajit singh 31/07/2016
    • Shishir "Madhukar" 31/07/2016
  5. RAJ KUMAR GUPTA 31/07/2016
    • Shishir "Madhukar" 31/07/2016
  6. Kajalsoni 31/07/2016
  7. Shishir "Madhukar" 31/07/2016

Leave a Reply