कदर – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

कदर

हुस्न वालों से जा कर ये कह दो
के अब हमें उनकी कोई परवाह ही नहीं …………………………
हमनें तो अपने दिल को समझा दिया है ये
कि क्यूँ करें कदर बेवफाओं की हम ………………………………….

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

18 Comments

  1. babucm 30/07/2016
    • sarvajit singh 30/07/2016
  2. mani 30/07/2016
    • sarvajit singh 30/07/2016
  3. Kajalsoni 30/07/2016
    • sarvajit singh 30/07/2016
  4. Dr Swati Gupta 30/07/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 30/07/2016
  6. sarvajit singh 30/07/2016
    • sarvajit singh 30/07/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/07/2016
    • sarvajit singh 30/07/2016
  8. Shishir "Madhukar" 30/07/2016
  9. sarvajit singh 30/07/2016
  10. अरुण कुमार तिवारी 30/07/2016
    • sarvajit singh 31/07/2016

Leave a Reply