आज का इन्सान

कितना ये आदमी
मतभेद करता
जिसमें खाता
उसी में छेद करता.

नभ में उड़ता
जमी पर पाँव ही नहीँ
कहीं ईमान दिखता
ऐसा कोई ठाव ही नहीं
डाह इतना कि खुद अपनो से
परहेज़ करता
कितना ये आदमी
मतभेद करता.

अब तो मोरौवत की
महक आती भी नहीं
इंशान इतना बदला की
उसकी भूख जाती ही नहीं
व्यर्थ अपने बदन का
स्वेद करता
कितना ये आदमी
मतभेद करता.

इतना एकाकी हुआ कि
घर से निकलता भी नहीं
छाँव में बैठकर दो घड़ी
बात करता भी नहीं
ठेस लग जाये किसी को
तो नहीं खेद करता

कितना ये आदमी
मतभेद करता
जिसमें खाता
उसी में छेद करता !!

****************
डॉ सी. एल. सिंह

7 Comments

  1. C.m.sharma(babbu) 24/07/2016
  2. mani 24/07/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/07/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  5. Shishir "Madhukar" 24/07/2016
  6. अरुण कुमार तिवारी 24/07/2016
  7. sarvajit singh 24/07/2016

Leave a Reply