हिमालय ने पुकारा

शंकर की पुरी चीन ने सेना को उतारा
चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा

हो जाए पराधीन नहीं गंगा की धारा
गंगा के किनारों को शिवालय ने पुकारा

हम भाई समझते जिसे दुनिया में उलझ के
वह घेर रहा आज हमें बैरी समझ के
चोरी भी करे और करे बात गरज के

बर्फों मे पिघलने को चला लाल सितारा
चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा

3 Comments

  1. XYZ 27/10/2012
  2. sarvani 13/05/2014
  3. Jay Shankar Shahi 21/01/2015

Leave a Reply to Jay Shankar Shahi Cancel reply