गांव की बारिश

गांव का वो झान्ही
उसमे से टपकता बारिश का पानी
कीच काच से भरा वो रस्ता
बच्चे लादे चलते बस्ता
फिसलन से भरी वो मेढी
हम सब चलते थे टेढी
बारिश में गिरने में मजा
मिले चाहे जो सजा।।

7 Comments

  1. C.m.sharma(babbu) 20/07/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 20/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" 21/07/2016
  4. sarvajit singh 21/07/2016
  5. mani 21/07/2016
  6. Savita Verma 23/07/2016

Leave a Reply to निवातियाँ डी. के. Cancel reply