सावन……………(हाइकु )

सावन आया
रिमझिम बरसे
प्रेम फुहार !!

पपीहा बोले
नाचे मयूर दल
कोयल कूके !!

मेघा गरजे
बिजुरिया कड़के
दहले मन !!

मंद पवन
संग बहे बयार
झूमे दरखत !!

चेतक प्यासा
बदरिया देख के
ख़ुशी में झूमे !!

बरसे पानी
मंद मंद फुहार
मन को भाये !!

सजनी भीगे
याद आये साजन
उमड़े प्यार !!

!
!
!

डी. के. निवातियाँ[email protected]

18 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 23/07/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 23/07/2016
  3. sarvajit singh 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  4. C.m.sharma(babbu) 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  5. अरुण कुमार तिवारी 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  6. mani 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  7. Shishir "Madhukar" 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  8. Raj Kumar Gupta 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  9. Kajalsoni 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 24/07/2016
  10. Meena bhardwaj 24/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 25/07/2016

Leave a Reply