तुम कहीं रह गए, हम कहीं रह गए

यह गीत कविता कोश के पास उपलब्ध नहीं है। आपके पास हो तो आप जोड़ दें या कविता कोश टीम को भेज दें ।

तुम कहीं रह गए, हम कहीं रह गए, गुनगुनाती रही वेदना
रात जाती रही, भोर आती रही, मुस्कराती रही कामना ।

One Response

  1. reji mathews 28/11/2013

Leave a Reply to reji mathews Cancel reply