किस्मत

आसमान को छूना अभी बाकी है
किस्मत से लड़ना अभी बाकी है

हमारी तो किस्मत ही ख़राब है
मगर याद रख किस्मत उनकी भी होती है जिनके हाथ नहीं होते
मगर वो जिंदगी भर इसका रोना भी नहीं रोते

दरड संकल्प मैं ही उनकी जान होती है
क्योंकि उनके हौसलों मैं उड़ान होती है

One Response

Leave a Reply to वेद प्रकाश राय Cancel reply