जिंदगी गुजारना

जिंदगी थमने का नाम नहीं
आगे बढ़ने का नाम है

जिंदगी रुकने का नाम नहीं
कुछ कर गुजरने का नाम है

इस नाम से ही हमारी पहचान है
जिसे दुनिया याद करेगी
आज नहीं तो कल हमरी पूजा भी करेगी

हर मूड पे कर रहा है कोई इंतज़ार
जिस से मिलने को है जिया बेकरार

यु तो बहुत कठिन है जिंदगी गुजारना
अगर तुम्हारा साथ हो तो फिर किसे पुकारना

हम दो ही सब कुछ कर लेंगे
और परिवार को पूरी खुशिया देंगे

6 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 15/07/2016
    • santosh71 15/07/2016
      • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 16/07/2016
  2. सोनित 15/07/2016

Leave a Reply to सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप Cancel reply