हिचकिया……..मनिंदर सिंह “मनी”

सुबह सुबह से हिचकिया आ रही है मुझे,
जैसे याद कर रहे वो, अहसास हो रहा मुझे,
कहते तुझे भूलना आसान है मेरे लिए, देखो,
कैसे हिचकिया भेज भेज बुला रही है मुझे ?
मैँ भी ना जाऊंगा, थोड़ा सा तडपाउंगा,
रोने दो उसे, उसने भी रुलाया था मुझे,
हिचकिया रुक ही नहीं रही, लगा ऐसा,
बड़ी शिद्दत से याद किया उसने मुझे,
शाम आते आते सर घूमने लगा, फिर,
जाने क्या हुआ ? हॉस्पिटल में होश आया मुझे,
जोर जोर से हसे थे, या चटपटा कुछ खाया था,
मेरी तरफ देखते डॉक्टर ने पूछा मुझे,
ज्यादा कुछ नहीं दो नान, दो छोले भठूरे,
दो गिलास मीठी लस्सी, सुन हैरानी से देखा मुझे,
ज्यादा खाने से गैस बन, सर को चढ़ गयी,
हिचकिया आना, आम बात है, डॉ ने बताया मुझे,
लगा ३३००० वाल्ट का करंट, तू नहीं तेरी,
यादों ने हिचकिया बन बेवकूफ बनाया मुझे,
सुबह सुबह से हिचकिया……….

नोट- आप भी ध्यान रखे जोर जोर से हसने से, तेज़ मसाले वाला खाने से, हिचकिया या पेट फूलने की शिकायत हो सकती है, ज्यादा से ज्यादा पानी पीये, हिचकिया आने पर कोई आपको याद कर रहा वहम में ना जिए |

हैप्पी संडे सभी को………………..

10 Comments

  1. सोनित 10/07/2016
    • mani 11/07/2016
  2. C.m.sharma(babbu) 10/07/2016
    • mani 11/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" 10/07/2016
    • mani 11/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 10/07/2016
    • mani 11/07/2016
  5. sarvajit singh 10/07/2016
    • mani 11/07/2016

Leave a Reply