बम…………मनिंदर सिंह “मनी”

बचपन के दिन थे, स्कूल की जेल में बंद थे,
क्लास जनरल नॉलिज की लगी थी,
सुन्दर सी मैडम, क्लास चौथी को,
ज्ञान की बातें बताने लगी थी,
जाने उसके दिल में क्या आया ?
कोई अगर तुम्हारे स्कूल के आगे,
कोई बम रख दे तो क्या करोगे ?
जाने कैसे उल्टा सा सवाल,
उसके दिल में आया,
सभी पर मार नज़र,
सबसे पीछे वाली सीट से मुझे उठाया,
बोली तुम बताओ “मनी”
मैँ उठा सीट से बोला,
मैडम जी पहले तो देखूंगा,
दस मिनट तक,
अगर ना फटा स्टाफ रूम में,
आप को पकड़ा दूंगा,
सारी क्लास हसने लगी,
बेचारी मैडम सोच रही,
सर पर हाथ रख मैंने इसे क्यों उठाया ?

ना कोई कॉस्ट, ना कोई टैक्स हासिये खुल कर हसिए,

7 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 09/07/2016
    • mani 10/07/2016
  2. C.m.sharma(babbu) 09/07/2016
    • mani 10/07/2016
  3. Meena bhardwaj 10/07/2016
    • mani 10/07/2016
  4. Meena bhardwaj 10/07/2016

Leave a Reply