बल और बुद्धि

बल और बुद्धि उन्नति की जवानी होती है ।
जिदंगी कि मुश्किलो से निपटने की कहानी होती है ।
गलती से भी अगर हो जाये शामिल गुरूर इनमे
ये फिर उस इंसान के पतन कि निशानी होती है ।।




डी. के. निवातियॉ[email protected]@@

22 Comments

    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  1. mani 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  2. ANAND KUMAR 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  3. Shishir "Madhukar" 08/07/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  5. Meena bhardwaj 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  6. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  7. C.m.sharma(babbu) 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 08/07/2016
  8. sarvajit singh 08/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 18/07/2016
  9. Hemchandra 09/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 18/07/2016
  10. RAJEEV GUPTA 09/07/2016
    • निवातियाँ डी. के. 18/07/2016

Leave a Reply to RAJEEV GUPTA Cancel reply