आशुतोषी माँ नर्मदा

आशुतोषी माँ नर्मदा
(एक भक्त की क्षमा याचना )
सुशील शर्मा

आशुतोषी माँ नर्मदा अभय का वरदान दो।
शमित हो सब पाप मेरे ऐसा अंतर्ज्ञान दो।
विषम अंतर्दाह की पीड़ा से मुझे मुक्त करो।
हे मकरवाहनी पापों से मन को रिक्त करो।
मैंने निचोड़ा है आपके तट के खजाने को।
आपको ही नहीं लूटा मैने लूटा है ज़माने को।
मैंने बिगाड़ा आवरण ,पर्यावरण इस क्षेत्र का।
रेत लूटी और काटा जंगल पूरे परिक्षेत्र का।
मैंने अमित अत्याचार कर दुर्गति आपकी बनाई है।
लूट कर तट सम्पदा कब्र अपनी सजाई है।
सत्ता का सुख मिला मुझे आपके आशीषों से।
आपको ही लूट डाला मिलकर सत्ताधीशों से।
हे धन्यधारा माँ नर्मदे अब पड़ा तेरी शरण।
माँ अब अनुकूल होअो मेरा शीश अब तेरे चरण।
उमड़ता परिताप पश्चाताप का अब विकल्प है।
अब न होगा कोई पाप तेरे हितार्थ ये संकल्प है।
आशुतोषी माँ नर्मदा अभय का वरदान दो।
शमित हो सब पाप मेरे ऐसा अंतर्ज्ञान दो।

6 Comments

  1. mani 06/07/2016
  2. babucm 06/07/2016
  3. निवातियाँ डी. के. 06/07/2016
  4. Shishir "Madhukar" 06/07/2016

Leave a Reply