इक हकीकत -युवा पीढ़ी की

उसके हुस्न की अदा ही कुछ ऐसी थी
जो हमेशा दीवाना बनाया करती थी…..!!
उसके गुनगुनाने की अदा कुछ ऐसी थी…
बिन पिए जाम मन की महफ़िल मदहोश हो जाया करती थी …!!
गुजरती थी जब वो मेरी ज़िन्दगी की गलियों से..
बिन मौसम बरसात हुआ करती थी …..!!
जब वो मेरे लबों पर दस्तक देती थी …
तो खुबसूरती में चार चाँद लगा जाया करती थी …!!
अरे ज्यादा सोचो मत दोस्तों
वो कोई हसीना नहीं …कोई नगीना नहीं
वो मेरे छात्र जीवन के चेहरे की ”मुस्कान”हुआ करती थी..!!!
जो आज इस व्यस्तता और कामकाजी भरे जीवन
में कही खो सी गयी है ….!!!!
जो मेरे चेहरे पर तनाव का पर्दा डाल
खुद कही सो सी गयी है ….!!!

20 Comments

  1. mani 03/07/2016
  2. Ankita Anshu 03/07/2016
  3. sarvajit singh 03/07/2016
    • Ankita Anshu 03/07/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 03/07/2016
    • Ankita Anshu 03/07/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 03/07/2016
    • Ankita Anshu 03/07/2016
  6. Shishir "Madhukar" 03/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016
  7. Prakash Tripathi 04/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016
  8. babucm 04/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016
  9. Ankit Dubey 04/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016
    • Ankita Anshu 04/07/2016

Leave a Reply