जाने वो कैसी होगी, थोड़ी ऐसी या थोड़ी वैसी होगी…………..!!

जाने वो कैसी होगी, थोड़ी ऐसी या थोड़ी वैसी होगी…………..!!
तपती दोपहरी होगी, या चांदनी रात होगी,
सावन की सुहानी बूंदे होगी, या बेमौसम बरसात होगी,
जाने वो कैसी होगी, थोड़ी ऐसी या थोड़ी वैसी होगी…………..!!

कुछ कड़वे के बाद कुछ मीठे जैसा एहसास होगी,
लम्बे पतझड़ के बाद महके फूलों की सौगात होगी,
कुछ ऐसी होगी वो, हाँ-हाँ कुछ ऐसी होगी……………!!

6 Comments

  1. mani 01/07/2016
    • pandey sauabh 01/07/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 01/07/2016
  3. C.m.sharma(babbu) 01/07/2016
  4. Amar Chandratrai 02/07/2016
  5. prinku 04/07/2017

Leave a Reply to निवातियाँ डी. के. Cancel reply