बेटियों की आमद – शिशिर मधुकर

कोई भी प्रीत रिश्तों की जहाँ पूरी ना होती हैं
उन्ही अंगनो में तो बेटियों की आमद होती हैं
लूट लेती है सारा प्रेम वो इस रिश्ते के रूप में
कभी ना देख पाता हैं पिता बेटियों को धूप में

शिशिर मधुकर

20 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  2. babucm 30/06/2016
    • Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  3. Meena bhardwaj 30/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 30/06/2016
    • Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  6. अकिंत कुमार तिवारी 30/06/2016
    • Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  7. Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  8. Manjusha 30/06/2016
  9. Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  10. sarvajit singh 30/06/2016
  11. Shishir "Madhukar" 30/06/2016
  12. Dr Swati Gupta 01/07/2016
  13. Shishir "Madhukar" 01/07/2016
  14. Amar Chandratrai 01/07/2016
  15. Shishir "Madhukar" 01/07/2016

Leave a Reply