ज़िद

क्या अजीब सी ज़िद है..
हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की

7 Comments

  1. Amar Chandratrai 29/06/2016
    • pandey sauabh 01/07/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 30/06/2016
  3. babucm 30/06/2016
    • pandey sauabh 01/07/2016
    • pandey sauabh 01/07/2016

Leave a Reply to pandey sauabh Cancel reply