हंसी और दर्द

The most important thing is to enjoy your life – to be happy – it’s all that matters…

“जो इंसान जितना ज्यादा हँसता है,
वो दिल ही दिल में दर्द को समेटे होता है,
खुद भी हँसता है, औरों को भी हंसाता है,
और अपने आसपास खुशहाली को लाता है,
लेकिन जब वो तन्हा होता है,
अपने दर्द में डूब जाता है,
कभी ये दर्द आँसुओ के रूप में,
आँखों में झलक आता है,
फिर अगले ही पल दर्द को,
दिल में दफ़न करके,
ओठों पर मुस्कुराहट को लाता है,
और फिर से अपनी खिलखिलाहट से,
दूसरों के चेहरे पर मुस्कान ले आता है,
इस तरह वो जिंदगी को हर हाल में,
जीने का अंदाज सिखा जाता है।”
By: Dr.Swati Gupta.

16 Comments

  1. sarvajit singh 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
  3. babucm 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
  4. mani 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
  5. Shishir "Madhukar" 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016
  6. Rajeev Gupta 28/06/2016
    • Dr Swati Gupta 30/06/2016

Leave a Reply