क़ातिल – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

क़ातिल

गरूर, नखरे, नज़ाकत और अदा
ऐसे नश्तर हैं हुस्न के ……………………….
जो क़त्ल कर देते हैं आशिक़-ए-दिलों का
और क़ातिल भी नहीं कहलाते ………………….

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 26/06/2016
    • sarvajit singh 27/06/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 26/06/2016
    • sarvajit singh 27/06/2016
  3. अरुण कुमार तिवारी 26/06/2016
    • sarvajit singh 27/06/2016
  4. babucm 27/06/2016
    • sarvajit singh 27/06/2016
    • sarvajit singh 27/06/2016
  5. mani 27/06/2016
  6. sarvajit singh 27/06/2016

Leave a Reply to sarvajit singh Cancel reply