इंतजार

एक पल हम दूर क्‍या हो गये
वो बड़े समझदार हो गये

हम भी अब थोड़े मजबूर हो गये
वो भी कुछ वफादार हो गये

दोनों के ठिकाने तो अलग थे
पर दिल के मकान एक हो गये

इंतजार के आलम ने कुछ यूं बदला हम दोनों को
में उन के नाम हो गया,और वो मेरे नाम हो गये

(इंतजार):-अभिषेक शर्मा

15 Comments

  1. mani 24/06/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 24/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" 24/06/2016
  4. sarvajit singh 25/06/2016
  5. आदित्‍य 25/06/2016
  6. आदित्‍य 25/06/2016
  7. babucm 25/06/2016

Leave a Reply to अभिषेक शर्मा Cancel reply