मंजिल अभि बाकी है

राह में चलते चलते बहुत से मोड़ आये
कभी निराशाएं मिली तो कभी ठोकर खाए
कभि उम्मीद टूटी तो कभी अपने छुटे
कभि आशा ही टूट गयी तो कभि दिल टूटे
जो याद था तो बस इतना की मंजिल अभि बाकी है………

दिल ने कहा आँखों को बंद कर दो सपने देखना
जहाँ तुम चल दिए हो वो राह आसान नहीं याद रखना
चलते चलते थक जाओगे
आंधी आएगी झुक जाओगे
धूप में न छांव मिलेगी आफत में जान फसेगी…

हमने उसकी एक न मानी
कहा यही तो हमारी परीक्षा और तलाशी है
बस चलते जाना है
क्योंकि मंजिल अभि बाकी है

रास्ते पर चलते चलते हर मोड़ पर थके
कभी धुप तो कभी छाँव पे थमें
कभि गिरकर उठे तो कभि उठकर चले
कभि न डर लगा की राह वीरानि है
याद था तो बस इतना की मंजिल अभि बाकी है

चलते चलते उस मोड़ पर भी आये जहा न किसी का साथ था न किसी के साए
हर पलछिन बनती गयी एक कहानी
हर मोड़ पर एक नया तजुर्बा एक नयी चीज जानी
लगा यूँ की ये कुदरत की कोई चालाकी है
बस चलते जाना है क्यूंकि मंजिल अभि बाकी है….

मदमस्त चलते गए और चलते गए
लगा मंजिल के करीब बढ़ते गए
रास्ते ने ही आगे का रास्ता दिखा दिया
एक मोड़ से दूसरा मोड़ जुड़ता चला गया
सोचा यही मेरी मंजिल तो नहीं जो आँखों में धुंधलाती है
पर नहीं मंजिल तो अभि बाकी है….

चलते चलते दिल में ख्याल आया
जो चाहिए था वो तो पीछे छुट गया
किस सुनसान राह पर भटक रही हूँ
ओश की बूँद को हीरा समझ बैठी
जैसे ही छुआ वो तो छलक गयी
क्यूँ बचाकर रखा मेने उसे हवाओं से
क्यूँ न बह जाने दिया उसे

किसकी चाहत में कोशों दूर आ गयी
कैसे लौट पाउंगी घर को
जो चाहिए था वो तो मेरा था ही नहीं
क्या समझा पाऊँगी खुद को

उलझन में उलझकर रह गयी हूँ मैं
फूलों की पंखुड़ियों की तरह सिमट कर रह गयी हूँ मैं
राहों से खुद का नाता तुड़ा लिया
मंजिल ने भी हमसे अपना पीछा छुड़ा लिया

सपने भी अब हमारा मजाक उड़ाकर पलकों की खिडकियों से झाँकतें है
क्या अब ऐसा कहना सही है की मंजिल अभि भी बाकी है

18 Comments

  1. अरुण कुमार तिवारी 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
  2. Prince Seth 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
  3. mani 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
    • shrija kumari 23/06/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 23/06/2016
    • shrija kumari 24/06/2016
  6. babucm 24/06/2016
    • shrija kumari 25/06/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/06/2016
    • shrija kumari 25/06/2016

Leave a Reply