अमावस की रात – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

अमावस की रात

होश किसको है अब
उसे देखने के बाद …………………
चाँद नज़र आया है हमें
अमावस की रात में ……………………..

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

12 Comments

    • sarvajit singh 24/06/2016
  1. निवातियाँ डी. के. 24/06/2016
    • sarvajit singh 24/06/2016
  2. mani 24/06/2016
    • sarvajit singh 24/06/2016
    • sarvajit singh 24/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" 24/06/2016
    • sarvajit singh 24/06/2016
  4. babucm 25/06/2016
    • sarvajit singh 14/07/2016

Leave a Reply