दरवाज़ा – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

दरवाज़ा

दिल में उनके बस गए हैं हम …………………..
उनके दिल की सब दीवारें तोड़ के
अब कोई दरो-दीवार ही नहीं बची …………………
के वो दरवाज़ा दिल का बन्द कर सकें

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

16 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
  2. mani 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
  3. babucm 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
  4. Shishir "Madhukar" 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
  5. Rajeev Gupta 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
  6. अरुण कुमार तिवारी 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016
    • sarvajit singh 28/06/2016

Leave a Reply