“ख्वाहिश”

कोहरे के बादल,कड़ाके की ठण्ड हो तो
सूरज की नरम धूप,अच्छी लगती है।

भारी-भरकम भीड़,अनर्गल शोर हो तो
खामोशी की चादर,अच्छी लगती है।।

लीक पर दौड़,बेमतलब की होड़ हो तो
कुछ हट कर करने की सोच, अच्छी लगती है।

भावों का गुब्बार,अभिव्यक्ति का अभाव हो तो
नयनों की मूक भाषा,अच्छी लगती है।।

‘मीना भारद्वाज’

22 Comments

  1. mani 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 21/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 21/06/2016
  3. प्रियंका 'अलका' 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 21/06/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 21/06/2016
  5. Meena bhardwaj 21/06/2016
  6. arun kumar tiwari 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 22/06/2016
  7. Kajalsoni 21/06/2016
    • Meena bhardwaj 22/06/2016
  8. ANUJ 22/06/2016
    • Meena bhardwaj 22/06/2016
  9. babucm 22/06/2016
    • Meena bhardwaj 22/06/2016
  10. RAJEEV GUPTA 22/06/2016
    • Meena bhardwaj 22/06/2016
  11. Meena bhardwaj 22/06/2016

Leave a Reply to अभिषेक शर्मा Cancel reply