रूह रोती है – शिशिर मधुकर

किसी के दिल में बस जाना कभी आसा नहीँ होता
सीने को चीर कर ही मोती धागे में खुद को पिरोता
छूट जाता है ऐसा संग तो फ़िर कुछ भी नहीँ बचता
रूह रोती है पर इन आँखो में कोई आँसू नहीँ होता

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. arun kumar tiwari 18/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" 18/06/2016
  3. Shishir "Madhukar" 18/06/2016
  4. C.m.sharma(babbu) 18/06/2016
    • Shishir "Madhukar" 19/06/2016
  5. sarvajit singh 18/06/2016
    • Shishir "Madhukar" 19/06/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 18/06/2016
  7. Shishir "Madhukar" 19/06/2016
  8. mani 19/06/2016
  9. Shishir "Madhukar" 19/06/2016

Leave a Reply