किस्सा फिर वही पुराना………………

नया नया था अपना याराना,
हुआ बहुत पुराना सा लगता है
कल तक जताते थे वो अपनापन
आज बीता जमाना सा लगता है
इतनी जल्दी दिल भर जाएंगे
सोचा न था ………………….!
मगर क्या कहे……………….!
ये किस्सा फिर वही पुराना लगता है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ [email protected]

12 Comments

  1. विजय कुमार सिंह 11/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" 11/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
  3. C.m. sharma(babbu) 11/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
  4. Rajeev Gupta 11/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/06/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 13/06/2016

Leave a Reply