जीने की वजह…………..

तुम्हारी नजरो में जो तस्वीर उभर कर आती है
उस तस्वीर में मुझे सूरत अपनी नजर आती है
यदा कदा जब जब भी आते हो मेरे सामने तुम
मुझे हर बार जीने की एक नयी वजह मिल जाती है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ [email protected]

10 Comments

  1. mani 09/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 09/06/2016
  2. Shishir "Madhukar" 09/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 09/06/2016
  3. विजय कुमार सिंह 09/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 09/06/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 10/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 10/06/2016
  5. babucm 10/06/2016
    • निवातियाँ डी. के. 10/06/2016

Leave a Reply