इंतज़ार रहेगा मुझे…

इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी में जगह बना पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे सपनों को सिर्फ मैं ही सजाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे ख्यालों में तस्वीर अपनी बनाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे सपनों में मैं भी रंग भर पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी की बगिया महकाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़ुबां से अपना नाम सुन पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे ख्यालों पर मैं भी छा जाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब मैं तेरे लिए कुछ भी कर पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब गीत कोई तेरे लिए गुनगुनाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी का नगमा बन पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे लबों का तराना मैं बन जाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब मैं यह इंतज़ार ख़त्म कर पाऊं।

7 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 08/06/2016
    • bebak lakshmi 09/06/2016
  2. Rajeev Gupta 08/06/2016
    • bebak lakshmi 09/06/2016
  3. योगेश कुमार 'पवित्रम' 09/06/2016
    • bebak lakshmi 09/06/2016
  4. विजय कुमार सिंह 09/06/2016