मैं आधी

मैं आधी

जिन्दगी कुछ नही
तेरे बिन ऐ मेरे साथी ।
तु है तो सबकुछ है
तु नही है तो मैं
रह जाती हूं आधी ।
तुने ही दिल के
कोरे पन्नों पर
लिखा इतिहास
मोहब्बत का
जो पहले खाली था
भर लिया ऐहसास
मोहब्बत का ।
तुम ही जीवन गीत हो मेरा
तुम ही हो रैना बाती ।
जिन्दगी कुछ नही
तेरे बिन ऐ मेरे साथी ।
मासूम कली को तुमने
जग में खिलना सिखा दिया
रोती थी मैं हमेशा
हंसना मुझको सिखा दिया
तेरे प्यारे ऐहसास ने
मुझको ये कहना सिखा दिया
तुम हो मेरे जीवन साथी ।
जिन्दगी कुछ नही
तेरे बिन ऐ मेरे साथी ।

2 Comments

  1. Rajeev Gupta 30/05/2016
  2. mani 30/05/2016

Leave a Reply