नश्तर -शिशिर मधुकर

इस ज़माने में कुछ ऐसे भी लोग होते हैं
अपनी बातों से जो बस नश्तर चूभोते हैं
ऐसे लोगों के साथ प्रेम कभी ना होता है
झूठे रिश्तों को बस इंसान मर के ढोता है

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 21/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  2. sarvajit singh 22/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  3. MANOJ KUMAR 22/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  4. Meena bhardwaj 22/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  5. Kajalsoni 22/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  6. C.m.sharma (babbu) 22/05/2016
  7. Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  8. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 22/05/2016
  9. Rinki Raut 22/05/2016
  10. Shishir "Madhukar" 22/05/2016

Leave a Reply