मेरा घर

मेरा घर

हरी भरी हरियाली
फै ली हो मेरे आंगन में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।
ना कहीं प्रदूषण हो
ना कहीं पर शोर हो
बस हरियाली ही हरियाली
मेरे चारों और हो
तभी तो जीना, जीना होगा
वरना बेहतकर है मर जाने में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।
प्रकृति की सुन्दर वस्तुएं
और सारी सुखमय चीजेंं
खाने पीने की सारी सुविधा
बस छोटे से घर में हो मेरे
चारों तरफ पहाड़ हों मेरे
घर बना हो तलहटी में
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।
या फि र मेरे घर के अन्दर
समस्त समुंद्र हों सारे
सारी उसमें नदियाँ हों
आसमान के हों तारे
समुंद्र के मध्य का टापू
बस हो मेरे आँगन में ।
मेरा घर बगीचा हो
मैं रहता हों मधुबन में।

One Response

  1. mani786inder 17/05/2016

Leave a Reply to mani786inder Cancel reply