करम…………

ऐ खुदा तू मुझपे इतना करम करना,
मेरे महबूब को नजरो से कभी ना जुदा करना !
!
सोते जागते हो दीदार उनकी सूरत का,
जब आये आखिरी साँस, सर उनकी बाँहो में रखना !!

!
!
!
डी. के. निवातियाँ [email protected]

46.75 KB (47,873 bytes)

10 Comments

  1. babucm 12/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 12/05/2016
      • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/05/2016
        • निवातियाँ डी. के. 12/05/2016
  2. Shishir "Madhukar" 12/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 12/05/2016
  3. sarvajit singh 12/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 12/05/2016
  4. Inder Bhole Nath 12/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 12/05/2016

Leave a Reply