अफ़सोस………..

अफ़सोस………..

गम इस बात का नहीं मुझे
की मैं दुनिया की नजरो में ख़ास नहीं
अफ़सोस बस इतना सा है
एक तेरी नजरो ने भी इनायत ना बख्शी …….!!

!
!
!

डी. के निवातियाँ [email protected]

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 09/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 09/05/2016
  2. babucm 09/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 09/05/2016
  3. sarvajit singh 09/05/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/05/2016

Leave a Reply