लहू जिगर का – शिशिर मधुकर

रक्त बहता है रगो में जब तक जीवन में साँस चले
धड़कने दिल की बढे आँखों से जब दो आँख मिलें
लहू जिगर का मैंने बना के जब से तुझे अपनाया है
मेरी साँसों में बस तेरी ही खुशबू का असर आया है.

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. प्रियंका 'अलका' 30/04/2016
    • Shishir "Madhukar" 30/04/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 30/04/2016
    • Archana 30/04/2016
      • Shishir "Madhukar" 30/04/2016
    • Shishir "Madhukar" 30/04/2016
  3. sarvajit singh 30/04/2016
  4. Shishir "Madhukar" 30/04/2016
  5. MANOJ KUMAR 01/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 01/05/2016
  6. Meena bhardwaj 01/05/2016
    • Shishir "Madhukar" 01/05/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 01/05/2016
  8. Shishir "Madhukar" 01/05/2016
  9. babucm 02/05/2016
  10. Shishir "Madhukar" 02/05/2016

Leave a Reply