हीरा – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

हीरा

दुनिया ने तो हमें छोड़ दिया था ……………….
बस इक पत्थर समझ कर
पर शुक्र है उस खुदा का ……………………….
जिसने तराश के हमें हीरा बना दिया

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 29/04/2016
    • sarvajit singh 29/04/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 29/04/2016
    • sarvajit singh 29/04/2016
  3. MANOJ KUMAR 29/04/2016
    • sarvajit singh 29/04/2016
  4. babucm 29/04/2016
    • sarvajit singh 29/04/2016
  5. BARGLA 30/04/2016
  6. munshi prenchand uday 02/05/2016
    • sarvajit singh 03/05/2016

Leave a Reply