तड़प – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

तड़प

ये दिल इतना तड़पा है
तेरी चाह में ………………
के तड़प भी कहने लगी ……………….
के ज़ालिम अब ओर ना सताओं मुझको

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

8 Comments

  1. SD 16/04/2016
    • sarvajit singh 16/04/2016
  2. Shishir "Madhukar" 16/04/2016
    • sarvajit singh 16/04/2016
  3. babucm 16/04/2016
    • sarvajit singh 16/04/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 16/04/2016
    • sarvajit singh 16/04/2016

Leave a Reply