नाख़ुदा – मेरी शायरी……. बस तेरे लिए

नाख़ुदा

दुनिया में हमने जिसे समझा था ख़ुदा
वो नाख़ुदा निकला …………………..
अरसे तक भटकाता रहा ……………
वो हमें मंज़िल की तलाश में

शायर : सर्वजीत सिंह
[email protected]

8 Comments

  1. babucm 14/04/2016
    • sarvajit singh 14/04/2016
  2. Bimla Dhillon 14/04/2016
    • sarvajit singh 14/04/2016
  3. Shishir "Madhukar" 14/04/2016
    • sarvajit singh 14/04/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 16/04/2016
    • sarvajit singh 16/04/2016

Leave a Reply