कैसे भुला दूँ

*वो दिन कैसे भुला दूँ*
***
तुम संग बिताये वो हसीँ पल
जिनमे न रात का पता था
न दिन की होती कोई खबर
उन यादो को मैं कैसे भुला दूँ !!

घुमड़तें बादलों के संग–संग
तेरा घनीं जुल्फों का लहराना
सावन की फुहारों के संग-संग
तेरा वो निर्झर प्रेम बरसाना,
वो हसी पल मै कैसे भुला दूँ !!

कार्तिक की काली सर्द रातों में
ठिठुरते हुए सितारों को तकना
कोहरे की चादर में लिपटी शाम
दीद्दार के इन्तजार में ठिठुरना
उन सर्द यादों को कैसे भुला दूँ !!

वसंत में चढ़ता फाग का रंग
फूलों जैसे लहलाने का तेरा ढंग
कलि की तरह चटकता अंग-अंग
मन की एकग्रता करता था भंग
सौंदर्य का वो रूप कैसे भुला दूँ !!
!
अब तुम ही बताओ,
वो दिन कैसे भुला दूँ

!
!
!
डी. के. निवातिया __!!!

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 24/02/2016
    • निवातियाँ डी. के. 25/02/2016
  2. Vijay yadav 24/02/2016
    • निवातियाँ डी. के. 25/02/2016
  3. MANOJ KUMAR 30/03/2016

Leave a Reply