इंतज़ार कब तक

जाने वो बहार आयेगी कब तक ॰
पिया मिलन का इंतज़ार कब तक ।
न दिन बीते न रात कटे ,
राह से उसकी अब न नज़र हटे
वो तड़पाता है; पल पल हमें ,
रहे दिल उसके लिए बेक़रार कब तक,
पिया मिलन का…………
वो सावरा मन मीत मेरा ,
वो है होंठो का गीत मेरा
वो चित चोर हर जाई है !
रहेगा मुझसे वो दूर कब तक ,
पिया मिलन का………….
तू मेरा है हमदम मेरे,
तुझ पर कुर्बान है सारे जनम मेरे
मेरे दिल का तू विश्वास है
होगी जाने तुझसे मुलाकात कब तक…।
पिया मिलन का………….
जग सारा ये पागल है !
ये प्यार का मतलब क्या जाने ..
प्यार के हर एक बंधन को…
हम प्रेमी जाने या रब जाने.
हमारी मोहब्बत को मंजिल मिलेगी कब तक
पिया मिलन का इंतज़ार कब तक………….।

7 Comments

  1. nirmala84 05/02/2016
  2. omendra.shukla 05/02/2016
    • nirmala84 08/02/2016
  3. Shishir "Madhukar" 06/02/2016
    • nirmala84 08/02/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 06/02/2016
    • nirmala84 08/02/2016

Leave a Reply