मुक्तक-“”झुकी-झुकी सी नज़र”-शकुंतला तरार

“झुकी-झुकी सी नज़र”

झुकी झुकी सी नज़र में कोई शरारत है
ये प्यार का न भरम है यही इबादत है
तुम्हारी इन अदाओं पे हैं लाखों कुरबां
जो मार डाले ज़माने को वो शराफत है
शकुंतला तरार रायपुर (छत्तीसगढ़)

One Response

  1. Shishir "Madhukar" 06/02/2016

Leave a Reply