क़त्आ ( मुक्तक ) 6 तेरे बग़ैर ज़िंदगी ये ज़िंदगी नहीं * muktak , qataa – salimraza rewa

oo
तेरे बग़ैर ज़िंदगी ये ज़िंदगी नहीं !!
तू खुश नहीं तो पास मेरे भी ख़ुशी नहीं !!
मैं मिल नहीं सका तो ये कैसे समझ लिया !!
हमको है तुमसे प्यार नहीं दोस्ती नहीं !!
oo
tere bagair zindgi ye zindgi nahi !!
tu khush nahi to pas mere bhi khushi nahi !!
mai mil nahi saka to ye kaise samajh liya !!
hamko hai tumse pyar nahi dosti nahi !!
oo
सलीम रज़ा रीवा – 9981728122
muktak,qataa by salimraza rewa                  

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 16/01/2016
  2. salimraza 16/01/2016
  3. निवातियाँ डी. के. 16/01/2016
    • salimraza 16/01/2016
  4. Er. Anuj Tiwari"Indwar" 16/01/2016
  5. salimraza 16/01/2016

Leave a Reply