चैन दिल का – शिशिर “मधुकर”

ए मुहब्बत तू नहीं तो कुछ नहीं इस ज़िन्दगी में
ग़र ना हो एहसासे ख़ुदा क्या रखा है बन्दिगी में
जिसपे है दौलत ये सच्ची कोई ना उसको कमी है
ध्यान से देखो अगर हर आँख में अब भी नमी है
घर जो टूटे ईंट गारे से फिर नया एक घर बना लो
टूटे दिल जुड़ते नहीं रूठे यार को जल्दी मना लो
छोड़ो महलों की तमन्ना साथ कुछ जाता नहीं है
बिन मुहब्बत कोई यहाँ दिल का चैन पाता नहीं है

शिशिर “मधुकर”

17 Comments

  1. Bimla Dhillon 08/01/2016
  2. Bimla Dhillon 08/01/2016
  3. Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 08/01/2016
  5. Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  6. asma khan 08/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  7. Mohit rajpal 08/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  8. Dr. Mobeen Khan 08/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  9. salimraza 08/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  10. Sampa 08/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 08/01/2016
  11. Anuj tiwari 09/01/2016
    • Shishir "Madhukar" 09/01/2016

Leave a Reply