विश्वास

हो जब तक तन में सांस
रहे तब तक मन में आस
पानी ठहरा है जरूर
होगी हलचल जाएगा दूर
नहीं रुका समय कभी भी
आज दुख है तो होगी खुशी भी
बादल हैे बरसेंगे छंटेगे
होगी सुबह सुनहरी धूप
आज अधूरा है तो कल है पूरा
सपनों का यह कूप

3 Comments

  1. Bimla Dhillon 24/12/2015
    • Girija 25/12/2015
  2. निवातियाँ डी. के. 28/12/2015

Leave a Reply