“मेरी क़लम भाग-2” डॉ. मोबीन ख़ान

ज़ुर्म देखकर नहीं उम्र देखकर,
जुर्म का फैसला किया जाएगा।।

अगर आप नाबालिग हुए तो,
जुर्म करने पर इनाम दिया जाएगा।।

किसी की आबरु लुटे तो लुटे,
पर नाबालिग़ को छोड़ दिया जाएगा।।

इतना ही नहीं उसे ना हो ज़िन्दगी में कोई परेशानी,
इसलिए दस हजार रुपए और सिलाई मशीन दिया जाएगा।।

ज़ुर्म देखकर नहीं उम्र देखकर,
ज़ुर्म का फ़ैसला किया जायेगा।।

4 Comments

  1. Raj Kumar Gupta 21/12/2015
    • Dr. Mobeen Khan 21/12/2015
  2. निवातियाँ डी. के. 22/12/2015
    • Dr. Mobeen Khan 22/12/2015

Leave a Reply