इमारत !!! (रै कबीर)

IMG_20151031_171317

है कैसी हमनें इमारत बनाई
क्रोध में तपी ईंट लगाई
रक्त से सींचा नींव को इसकी
मरी आत्मा आंगन दफनाई
भेदभाव की चारदीवारी
ईर्ष्या भाव से की चिणाई
क्लेश के हैं खिडकी दरवाजे
द्वेष की खूँटी लटकाई
पूजा घर में अधर्म विराजमान
पाप के दीए में लौ जलाई
भ्रष्टचार की छत व जंगले
तस्करी की सीढी चढाई
लालच भरी दीवार खडी है
मोह माया की पुट्टी करवाई
मन का गुल्लक भरा पाप से
वसीयत में है काली कमाई
है कैसी हमनें इमारत बनाई

9 Comments

  1. anuj tiwari 06/12/2015
    • रै कबीर 07/12/2015
  2. Manjusha 06/12/2015
    • रै कबीर 07/12/2015
  3. Shishir "Madhukar" 07/12/2015
    • रै कबीर 07/12/2015
  4. निवातियाँ डी. के. 07/12/2015
    • रै कबीर 07/12/2015
  5. Manoj Khansali (aNVESH) 21/06/2017

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply