शायरी

लोगो कि ज़रुरते पुरी करने मे,
ख्वाहिशें दिल कि यूहीं कफन हो गई,
ढूढंने निकले थे सुकून जिदंगी मे,
दुनिया के शोर मे मन कि आवाज दफन हो गई॥

One Response

  1. asma khan 23/11/2015

Leave a Reply