अन्जान हूं

अन्जान हूं

न कोई मंजिल है मेरी
ना ही कोई घर है
मैं इस शहर में आनेवाला
एक शख्श, अन्जान हूं।
मेरी मंजिल कांटों भरी
शहर ये जंगल जैसा है
रास्ता कोई ना सूझे
इस जंगल में, अन्जान हूं।
मैं इस शहर में आनेवाला
एक शख्श, अन्जान हूं।
सर पे छत है पेड़ो की
नीचे खतरा जीवों का
जाऊं तो जाऊं कहां मैं
जंगल का मेहमान हूं।
मैं इस शहर में आनेवाला
एक शख्श, अन्जान हूं।
आंखें निस्तेज डरी हुई
भय थिरकन से भरी हुई
खतरा हर पल लगा हुआ
गले में अटकी जान हूं।
मैं इस शहर में आनेवाला
एक शख्श, अन्जान हूं।
-ः0ः-

2 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 05/11/2015
  2. Shishir "Madhukar" 05/11/2015

Leave a Reply to Shishir "Madhukar" Cancel reply