हमनवा

किस्मत में लिखा होता, अगर खुदा ने उन्हें मेरी;
तो उनके दर पे मेरे अाँसू, यूँ ना बिखरते होते।
उम्मीद भी थोड़ी होती, उनके लौट आने की ग़र,
वो किसी और को, हमनवा ना कह रहे होते।

One Response

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" 10/10/2015

Leave a Reply