वजूद !!

मुझे मेरे ही वजूद की तलाश है
एक मुठ्ठी आसमान की आस है
उड़ने की ललक मेरी बादलों के पास है

घर के कोने कोने में बिखरी हूँ
समेट कर खुद को चलने की चाह है
आसमान के उड़ते परिदों सी न बन्धनों की चाह है

रिश्तों के बोझ तले रिस रहा वजूद मेरा
नदिया सी बलखा के किरणों सी धरा तक आ के
ज़र्रे ज़र्रे में तलाश मुझे मेरी भी मुकम्मल एक पहचान है
Shweta

4 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" 05/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" 05/10/2015
    • Shweta 10/07/2019
  3. निवातियाँ डी. के. 05/10/2015

Leave a Reply