दिवाली – शिशिर “मधुकर”

खुशियों का त्यौहार दिवाली
हर साल में जब भी आता है
बच्चे, बूढ़े और युवाओं
सबके मन को हर्षाता है
अन्धकार को दूर भगाकर
दीप खुशी के जलते है
मुरझाए से चेहरे भी
फूलों के जैसे खिलते हैं
लक्ष्मी गणेश के पूजन से
शुभ लाभ सभी को होता है
कर आतिशबाज़ी और फोड़ पटाखे
खूब धूम धड़ाका होता है
सबको अपने पर्वों को तुम
जी भर के खूब मनाने दो
मिलजुलकर आंनद करो और
अवसाद ना पास में आने दो.

शिशिर “मधुकर”

13 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 05/11/2015
    • Shishir "Madhukar" 05/11/2015
  2. SUHANATA SHIKAN 05/11/2015
    • Shishir "Madhukar" 05/11/2015
  3. Raj Kumar Gupta 05/11/2015
  4. Shishir "Madhukar" 05/11/2015
  5. Kamal Joshi 05/11/2015
  6. Shishir 06/11/2015
  7. Dr Deepika Sharma 06/11/2015
    • Shishir "Madhukar" 08/11/2015
  8. Rinki Raut 08/11/2015
  9. शकुंतला तरार 14/11/2015
    • Shishir "Madhukar" 14/11/2015

Leave a Reply